Latest Real Ghost Stories In Hindi

Read Best Indian Bhooton Ki Kahaniyan and real life incidents people faced in their life. Collections of Ghost Stories In Hindi includes stories from Indian Villages to Cities which will unearth your deepest nightmares and anxieties.

(1) पार्क वाली डायन – Budhi Dayan

Budhi Dayan Story In Hindi

यह घटना मेरी बड़ी बहन के साथ हुई, जिसकी हाल ही में शादी हुई थी। वह और उसका पति एक सॉफ्टवेयर कंपनी में काम करते थे। हर वीकेंड पर दोनों को छुट्टी होती थी, इसलिए दोनों शाम को पार्क में जाते थे।

एक शनिवार को जब दोनों को शाम पार्क में जाने का समय नहीं मिला, तो उन्होंने सोचा की रात को जॉगिंग करके जायेंगे। वे दोनों रात को ८ बजे पार्क में चलने के लिए गए। चलते-चलते मेरी बहन के पति को उसका दोस्त मिला इसलिए वे दोनों बाते करने लगे।

मेरी बहन गाड़ी में आकर उसके पति का इंतज़ार करने लगी। तभी गाड़ी के पास एक बूढी औरत भिक मांगने के लिए आगयी। मेरी बहन ने उसे बिना पैसे दिए गाड़ी में आकर बैठ गयी। थोड़ी देर में उसका पति आकर वे वहां से चले गए।

उनकी गाड़ी १० मिनट चली ही थी और जब गाडी लाल बत्ती पर रुकी तो फिर वोही बूढी औरत सामने दिखाई दी। मेरी बहन को कुछ अजीब सा तो लगा लेकिन उसने उसे अनदेखा कर दिया और उसपर ज्यादा ध्यान ना देकर वे अपने घर पहुँच गए।

Champak ki Kahaniya

अगली रात उसके पति किसी काम के लिए शहर से बाहर गये हुए थे और वह घर पर अकेली थी। रात को लगभग ३ बजे के करीब जब उसकी नींद खुली तो जिसे उसने देखा वो देखकर वह बुरी तरह से काँप गयी और आँखों पर विश्वास नहीं हुआ। उसने देखा की वही बुढी औरत उसके पलंग के बगल में बैठी हुई थी और कह रही थी मेरे करीब आओं।

एक बार तो उसने सोचा की शायद वह सपना देख रही है, लेकिन जब उसने अपनी आँखे बंद कर वापस खोली तब भी वो वही खडी थी। वह बहुत ही डर गयी और घर के दरवाज़े की तरफ बढ़ गयी और बाहर निकलकर पड़ोसियों का दरवाज़ा खटखटाया।

उसके पड़ोसी ने उसे अंदर ले लिया और पीने के लिए पानी दिया। अगल दिन उसने अपने पति और परिवार को साडी बात बताई।

जब ये बात हमारी माँ को बताई तो वो तुरंत उसके घर गयी और उन्होंने घर में छोटा सी पूजा करवाई ताकि वो बुढी औरत उसे दोबारा ना दिखे। उस पूजा के बाद मेरी बहन ने कभी उस बुढी औरत को नहीं देखा।

(2) भूतिया हॉस्टल Hostel Horror Story In Hindi

Ghost Stories In Hindi

Hostel Horror Story In Hindi

यह कहानी लगभग १० साल पहले की है। एक बड़ा सा शहर था, वह कई विश्वविद्यालयों के लिए प्रसिद्ध था। उस शहर में देश भर के कई छात्र पढ़ते थे। उस में एक इंजीनियरिंग कॉलेज था।

 उस कॉलेज का परिसर बहुत बड़ा था और उस में अच्छी हॉस्टल की सुविधाएं थीं। हॉस्टल की अच्छी सुविधा के कारण कई छात्र अपनी पढ़ाई के लिए उस कॉलेज को चुन रहे थे।

उस कॉलेज में मैकेनिकल पहला साल का एक लड़का ‘राकेश’ हॉस्टल में रहकर पढ़ाई करता था। वह बहुत दयालु और पढ़ाई में भी अच्छा था। उसके कमरे में चार अन्य छात्रों थे।

क्रिसमस की छुट्टियों में सभी बच्चे अपने घर जा रहे थे। राकेश भी घर जाने के लिए बहुत खुश था। सभी ने बैग पैक किया और हॉस्टल १० दिनों के लिए छोड़ दिया।

१० दिन के बाद सभी छात्र अपने हॉस्टल वापस रहने लगे। राकेश 2 दिन देरी से हॉस्टल आया। हॉस्टल आने के बाद राकेश अपने दोस्तों से कुछ ना बोला, और वह अलग सा व्यवहार कर रहा था। । यहाँ तक की वह खाना भी नहीं खता था, और कहता था की मैं बाद में खा लूंगा पर वह कभी नहीं खाता था।

अब वह पढ़ाई भी नहीं कर रहा था। जब उसके साथ वाले बच्चे उससे बात करना चाहते थे, तो वह टाल जाता था। वह दिनभर पता नहीं कहा रहता था और सिर्फ रात को केवल सोने के लिए हॉस्टल में आता था। घर से हॉस्टल आये सबको एक ही हफ्ता हुआ था, की राकेश के माता-पिता हॉस्टल में आये।

दोनों दुखी दिख रहे थे। उन्होंने सभी को हाय कहा, तभी कमरे में से एक लड़के ने कहा की राकेश एक हफ्ते से कॉलेज नहीं आ रहा है, वह सिर्फ रात को हॉस्टल आता है और सुबह कही निकल जाता है।

उसकी बात सुनकर राकेश के माता-पिता रो पड़े और बोले वह रात को भी कैसे आ सकता है, वह घर के पास के तालाब में दुब कर मर गया, हम तो उसका सामान लेने आ गए है। यह कहकर राकेश के माता-पिता उसका सामान लेके चले गए।

राकेश के माता-पिता की बाते सुनकर कमरे में सभी बच्चो चौंक गए। पहले उन्हें लगा कि उनके माता-पिता मजाक कर रहे हैं, लेकिन उन्हें रोते देखकर उन्हें विश्वास हो गया।

वे बार-बार यही सोच रहे थे की रात को जो लड़का उनके पास सोता है या जिसे वे देखते है, क्या वह राकेश का बहुत था। शाम हो गयी थी और अब राकेश के सभी रूममेट बहुत डरे हुए थे।

लेकिन उस दिन से राकेश का बहुत फिर कभी सोने के लिए हॉस्टल में नहीं आया, पर कई महीनो तक सारे बच्चे खौफ में जीते रहे और राकेश के रहनेवाले कमरे में हमेशा के लिए ताला लगाया गया। लोग कहते है की राकेश को अपने कॉलेज अऊर हॉस्टल से बहुत ही लगाव था, इसलिए मरने के बाद भी वह हॉस्टल का रास्ता छोड़ न सका।

Love Stories in Hindi

(3) भूतिया खिड़की Ghost Stories In Hindi

Ghost Stories In Hindi

मुकुंद जब छोटा था तब वो अपने माता-पिता के साथ गांव में रहता था। उसकी उम्र लगभग ४ से ५ साल तक होगी। उसके गांव में उनका घर बहुत ही बड़ा था, इसलिए वह कमरे में अकेला ही सोना पसंद करता था।

उसे रोज रात को खिड़की के बाहर एक औरत दिखाई देती थी। वह अपने माता-पिता को उस महिला के बारे में रोज बताता था की उसने सफ़ेद साड़ी पहनी हुई होती है, उसकी आँखें लाल है और वह मुझे बुलाती है, लेकिन वह बहुत छोटा होने के कारन उसके माता-पिता उसे अनसुना करते थे।

कुछ दिनों बाद उसकी पिताजी की नौकरी शहर में लग गयी। नौकरी अच्छी थी इसलिए उनके परिवार ने शहर में ही रहने का फैसला किया।  गाँव का घर खाली हो गया। अब उनका गांव जाना भी कम होने लगा था।

दस साल के बाद मुकुंद तो अपने गाँव के बारे में लगभग सबकुछ भूल चुका था। उसको रात में देखने वाली औरत की याद थी, मगर अब वो उसे भी सपना समझने लगा था।

पर एक दिन कोरोना वायरस की महामारी में उसकी पिताजी का काम घर से होने लगा। तब उसके परिवार ने सोचा की क्यों न गांव में जाकर सुखुन से जी लेते है। इसलिए मुकुंद का परिवार कुछ दिनों केलिए गांव में रहने के लिए चला गया।

उन्होंने गांव में आने के बाद पूरा घर साफ़ किया, मुकुंद ने भी अपना कमरा साफ़ किया और वहां पे रहने लगे।

दो दिन बाद अचानक एक रात को मुकुंद की नींद खुली। उसने खिड़की से बहार देखा तो उसे वही औरत नज़र आई जिसे वह बचपन में देखती थी। उसकी लाल आँखें चमक रही थी और वो उसे पहले की तरह बुला रही थी।

मुकुंद काफी डर गया था और उसने जल्दी से खिड़की बंद कर दी।

अगले दिन सुबह उसने अपने माता-पिता को सबकुछ बताकर विश्वास दिलाया की बचपन का सपना कोई सपना नहीं था। उसी दिन शाम तक उसका परिवार शहर वापस चला गया और अपना गांव का घर भी बेच दिया।

(4) जंगली चुड़ैल Kali Khatarnak Chudail

Ghost Stories In Hindi

chudail ki kahaniya

राहुल और उसका परिवार गांव में रहते थे। राहुल शहर के पोस्ट ऑफिस में काम करता था। राहुल रोजाना अपने गाँव से शहर काम के लिए आया-जाया करता था।

राहुल हर रोज की तरह ही उस दिन काम खत्म होने के बाद घर के लिए अपनी गाड़ी से रवाना होने लगे। घर जाते वक्त उसने कुछ जरुरी सामान लेने के लिए बाजार जाने का फैसला किया। कुछ सब्जिया और सामान लेने के बाद देखते-देखते टाइम कुछ ज्यादा ही गुजर गया था।

जब उनकी नज़र अपनी घडी पर पड़ी तो उस समय उसे एहसास हुआ की आज घर जाने में देर हो जाएगी और ये सब लेकर घर पहुँच ने में काफी समय लग जायेगा। ये सब सोचकर उसे लगा की जंगल के रस्ते से गया तो काफी समय कवर किया जा सकता है।

वास्तव में वह जंगल बहुत खतरनाक था, पुरे जंगली जानवर से भरा हुआ और सड़को पर पूरा अँधेरा, इसलिए कई लोग उस सड़क से नहीं जाते थे। तो उन्होंने अपना रास्ता बदला और जंगल की तरफ अपनी गाड़ी को घुमा लिया। रात के लगभग १० बज चुके थे गाड़ी तेज रफ़्तार से आगे बड़ रही थी, तभी अचानक तेज ब्रेक से उन्हें गाड़ी रोकना पड़ा।

उनकी गाड़ी के आगे एक मजदुर औरत अपना बेग लेके चल रही थी और वह काफी थक भी गई थी। गाड़ी को देखते ही वह रोने लगी। उसकी हालत देखकर राहुल को बड़ी दया आयी और बिना ज्यादा सोचे राहुल ने उसका घर पूछा। लेकिन वह औरत कुछ भी नहीं बोल रही थी, वह सिर्फ रोते ही चली जा रही थी।

राहुल ने उसे अपने गाड़ी में बैठने के लिए पूछा, क्यों की वो जानता था की जंगल काफी खतरनाक है और पूरा जंगली जानवरों से भरा हुआ था।

राहुल की यह बात सुनकर वह औरत झट से तैयार हो गयी और पीछे सीट पर बैठ गयी। अब उसका रोना बंद पड़ गया था लेकिन वह कुछ भी बोलने से साफ़ इंकार कर रही थी। राहुल ने भी उसे और सवाल नहीं पूछे, और सीधी गगाड़ी अपने घर पर ले गया।

कुछ ही देर में गाड़ी घर पे दरवाजे पे थी। राहुल का परिवार कब से उन्ही का इंतजार कर रहे थे। घर आते ही राहुल ने उस औरत की कहानी अपने माँ को बता दी। राहुल जानता था की उसकी माँ उस औरत को रहने नहीं देगी, इसलिए उसने कहा की वह औरत आज रात खाना बनाएगी और रसोई में ही सोकर कल सुबह अपने रस्ते चली जाएगी। 

Slokas in Sanskrit

  राहुल की माँ ने उसे सीधे रसोई घर ले गयी और सब्जिया काटने के लिए बोली, लेकिन तब भी उस औरत ने अपना मुँह नहीं खोला। जब राहुल की माँ ने उसे फ्रिज में से सब्जिया निकलने को बोली तब वह औरत उसे गुस्से से देखने लगी। राहुल की माँ बहुत ही डर गयी और वह वहा से चली गयी।

जब राहुल की माँ थोड़ी देर में राहुल को लेकर रसोई में आयी तो उन्होंने देखा की वह औरत फ्रिज में से कच्चा मांस खा रही थी। पूरे फर्श पर खून था।

राहुल और उसकी माँ ये सब देखकर चौक गए और उसकी माँ को समाज आया की ये जरूर एक चुड़ैल है। उन दोनों को देखकर वह चुड़ैल जोर जोर से हसने लगी और उनकी तरफ बढ़ने लगी।

चुड़ैल की आवाज़ सुनकर गांव के कई लोग राहुल के घर आ पहुंचे। तब उन्होंने देखा की राहुल घायल हो कर जमीन पर गिर गया था और उसकी माँ भी कोने में बैठे रो रही है। जब उन्होंने चुड़ैल को देखा तो वो लोग भी चौक गए। 

पर बहुत सारे लोगो को देखकर वह चुड़ैल अपने आप को कमज़ोर महसूस करने लगी। जब लोगो ने रसोई में रखे सामान उस चुड़ैल पर फेकना शुरू कर दिया तब वह चुड़ैल वहा से भाग निकली और फिर से जंगल में जाकर छूप गयी। रहुल अपने जीवन में फिर कभी उस जंगल के रास्ते से नहीं गुजरा।

1 thought on “Latest Real Ghost Stories In Hindi”

Leave a Comment